Rocks ! Types of Rocks: Igneous, Sedimentary, Metamorphic

6
165

Table of Contents

इस लेख मे आप लोगो को (Rocks: Types of Rocks) चट्टान और उसके प्रकार, पृथ्वी पर प्राचीनतम चट्टानें, पृथ्वी की परिवर्तनकारी शक्तियां, चट्टानों के तीन प्रकार (Three types of rocks) आग्नेय चट्टानें (Igneous Rocks), अवसादी चट्टानें (Sedimentary Rocks), रूपांतरित चट्टानें (metamorphic rocks) अथवा इनका निर्माण के बारे मे आपको मूलभूत जानकारी (Basic Understanding) दी जाएगी।

चट्टानें (Rocks)

पृथ्वी पर जो धरातल है वह पदार्थ चाहे कठोर हो (पत्थर की तरह) या चाहे मुलायम (मिट्टी की तरह) हो, कहलाते चट्टानें है।

रेत और मिट्टी भी चट्टानों के ही चूर्ण से बनी है।

  • पत्थर टूट के बड़े टुकड़ों में रह गया है, वह रेत है। जैसे :- गेहूं से आटा।
  • पत्थर टूट के एकदम महीन हो गया है वह मिट्टी है। जैसे :- गेहूं से मैदा।

पहली चट्टानें जो पृथ्वी पर बनी, आग्नेय चट्टानें (igneous rock) है जो अग्नि से ठंडा होने के कारण ठोस रूप में परिवर्तित हो गई।

पृथ्वी पर प्राचीनतम चट्टानें, आग्नेय चट्टानें (Igneous Rocks) है। जिसे प्रारंभिक चट्टानें (Primary Rocks) या मूल चट्टानें (Basic Rocks) कहते हैं।

(The Oldest Rocks on the Earth Igneous Rocks)

पृथ्वी की परिवर्तनकारी शक्तियां (Agents) लगातार कार्यरत रहती है। जैसे :- हवा (Air), वर्षा (Rain), ठंड (Frigidity), गर्मी (Heat), सिकुड़ना (Contraction), सरला (Dispersion), फैलना (Dispersion), दबाव (Pressure), घर्षण (Friction) आदि।

NOTE:- ऐसे व्यक्ति जो चट्टानों का अध्ययन करते हैं भूविज्ञानी (Geologist) कहलाते हैं।

अब देखते हैं कि आखिर चट्टाने (Rocks) कितने तरह की होती है।

चट्टानों के तीन प्रकार (Three types of rocks)

  1. आग्नेय चट्टानें (Igneous Rocks)
  2. अवसादी चट्टानें (Sedimentary Rocks)
  3. रूपांतरित चट्टानें (metamorphic rocks)

अब हम इन पर थोड़ा विस्तार से बात करेंगे और समझेंगे कि आखिर इन में मूलभूत (Basic Understanding) अंतर क्या है।

  1. आग्नेय चट्टानें (Igneous Rocks) :-

आग्नेय चट्टानें वह चट्टानें है, जिनका निर्माण मैग्मा या लावा के ठंडे होने से हुआ है, आग्नेय चट्‌टानों  (Igneous Rocks) कहलाती है।

मैग्मा और लावा में मात्र स्थान का अंतर है। पृथ्वी के अंदर जो पिघले (Liquid Form) हुए पदार्थ हैं, उसे मैग्मा कहा जाता है। और जब यही मैग्मा ज्वालामुखी में से बाहर आ आता है, उसे लावा कहते हैं। https://himanshuagrawal24.com/rocks-types-of-rocks/

आग्नेय चट्टानें की विशेषताएं (Characteristics of Igneous Rock)
  • आग्नेय चट्टानें बहुत ही सघन घनत्व वाली तथा बहुत कठोर (Very Dense and Very Hard.) होती है।
  • इसमें रबेदार (Crystal) होते हैं।
  • इसमें परत नहीं होती है, बल्कि जोड़ होते हैं।
  • इसमें जैविक अवशेष नहीं मिलते क्योंकि ज्यादा गर्म होने के कारण अवशेष की राख बन जाती है।
  • इन चट्टानों में, ना तो कोई छेद और ना ही कोई जीवाश्म (No Holes & No Fossils) पाए जाते हैं।
  • ज्वालामुखी के क्षेत्रों में इस तरह की चट्टानें ज्यादा मिलती है।

ग्रेनाइट (Granite) और बेसाल्ट (Basalt) आग्नेय चट्टानों के अंतर्गत आते हैं।

  1. अवसादी चट्टानें या परतदार चट्टानें (Sedimentary Rocks) :-

अवसादी (Sediments) के संचय के कारण अवसादी चट्टानों (Sedimentary Rocks)  का निर्माण होता है।

अवसाद क्या होते हैं ?

पृथ्वी की परिवर्तनकारी शक्तियां जैसे – हवा (Wind), वर्षा (Rain), ठंड (Cold), गर्मी (Heat), सिकुड़ना (Shrinking), फैलना (Spread), दबा (pressure), घर्षण (friction), दबाव (suppressed) आदि के कारण जमा होने वाले जो तत्व है, अवसाद कहलाते है।Sedimentary-Rocks

  • पृथ्वी की परिवर्तनकारी शक्तियां लगातार अपना काम करती रहती हैं।
  • पृथ्वी पर पाई जाने वाली 75% चट्टाने अवसादी होती है।

Read More :- Amazing Facts about Space ! अंतरिक्ष के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य

अवसादी चट्टानों की विशेषताएं
  • निक्षेप (Deposits)
  • अवसादी चट्टानों में जीवाश्म पाए जाते हैं।
  • अवसादी चट्टानें कम कठोर होती हैं, तो इनकी जिंदगी भी कम होती है।
  • इन चट्टानों में क्रिस्टल नहीं पाए जाते हैं।
  • चट्टानों में छिद्रपूर्ण (Porous) पाए जाते हैं।
  • खनिज चट्टानों में खनिज तेल की सबसे ज्यादा संभावनाएं होती है।

बलुआ पत्थर (Sandstone) , चूना पत्थर (Limestone), खड़िया/चॉक (Chalk), क्ले (Clay) आदि अवसादी चट्टानों के उदाहरण है।

रेत के कण आपस में जुड़ – जुड़ कर बलुआ पत्थर बना देते हैं।

चॉक (Chalk) :-

जो जीव – जंतु मर जाते हैं, नष्ट होते हैं, तो उनके छोटे-छोटे कैल्शियम कार्बोनेट (Calcium Carbonate) के जो छोटे-छोटे टुकड़े होते हैं, यही कैलशियम कार्बोनेट के छोटे-छोटे टुकड़े मिलकर ही चौक बनाते हैं।

  1. रूपांतरित चट्टानें (Metamorphic Rocks) :-

जब आग्नेय चट्टानों और अवसादी चट्टानों पर ऊष्मा और दबाव (Heat and Pressure) बहुत अत्यधिक होता है, और यह लंबे समय तक बना रहता है, फिर रूपांतरित चट्टानों का निर्माण होता है।

Due to heat (Heat from Magma) and pressure (Pressure from Upper Layer) and Chemical Reactions, formed Metamorphic Rock.Metamorphic-Rocks

Sedimentary Rocks or Igneous Rocks + Heat and Pressure + Long Time = Formation of Metamorphic Rocks.

चूने के पत्थर से संगमरमर, शैल से स्लेट, कोयला से हीरा, बलुआ पत्थर से कार्टून, ये कुछ रूपांतरित चट्टानों के उदाहरण है।

Read More :- सत्य और उसका विश्लेषण : Truth and its analysis

Read More :-प्रकृति के सिद्धांत और धर्म एवं परंपराएं (Principles of Nature and Religions and Traditions)
उम्मीद है कि आपको इस लेख के माध्यम से चट्टानों (Rocks) तथा चट्टानों के प्रकार (Types of Rocks) के बारे में कुछ मूलभूत समझ आई होगी।

हमें आपके सवाल और सुझावों का हमेशा से इंतजार रहता है, अगर आपके कोई सवाल और सुझाव है, तो कृपया हमें सूचित करें।

धन्यवाद! जय हिंद जय भारत..!!

6 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here