प्लेट विवर्तनिक सिद्धांत । Plate Tectonic Theory UPSC in Hindi

0
580
प्लेट विवर्तनिक सिद्धांत । Plate Tectonic Theory in Hindi by HimanshuAgrawa24l

प्लेट विवर्तनिक सिद्धांत । Plate Tectonic Theory UPSC in Hindi

आज हम बात करेंगे प्लेट विवर्तनिक सिद्धांत (Plate Tectonic Theory UPSC) के बारे में। जिस पर आप और हम लोग रहते हैं और सारी गतिविधियां करते हैं। जिससे यह सारे महाद्वीप (Continents) बने है जिन्हें आज आप ओर हम लोग देखते है।

जिसे अल्फ्रेड वैगनल (Alfred Wegener) द्वारा, महाद्वीपीय प्रवाह का सिद्धांत (Continental Drift Theory) नाम दिया गया। अगर आप इसके बारे में और अधिक जानना चाहते हैं तो आपको महाद्वीपीय प्रवाह का सिद्धांत (Continental Drift Theory) समझना होगा। जिसके ऊपर हमने पहले से ही लिख लिखा हुआ है।

अल्फ्रेड वैगनल (Alfred Wegener) द्वारा की गई व्याख्या को प्लेट विवर्तनिक सिद्धांत (Plate Tectonic Theory) के अंतर्गत पूरा किया गया।

प्लेट विवर्तनिक सिद्धांत (Plate Tectonic Theory) क्या है?

प्लेट विवर्तनिक सिद्धांत (Plate Tectonic Theory) का संबंध प्लेटो के स्वभाव तथा प्रभाव के अध्ययन से है। टो की जो गतियां है जैसे पास आना, दूर जाना या आपस में रगड़ खाना, प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत (Plate Tectonic Theory) के अंतर्गत आती है।प्ले

तीन तरह की गतियाँ (Three Types of Movements)

इन प्लेट विवर्तनिकी (Plate Tectonics) में तीन तरीको से गतियाँ होती है।

  1. अपसारी गति (Divergent Movements),
  2. अभिसारी गति (Convergent Movements),
  3. रूपांतर गति (Transform Movements)प्लेट विवर्तनिक सिद्धांत । Plate Tectonic Theory in Hindi by HimanshuAgrawa24l
  1. अपसारी गति (Divergent Movements) :-

  • अपसारी गति (Divergent Movements) में दो प्लेटों के बीच भ्रंश (दरार) का निर्माण होता है।
  • यह विपरीत दिशा में प्रवाहित होते हैं।
  • विपरीत दिशा में प्रवाहित होने के कारण भ्रंश (दरार) का विस्तार होता है।
  • मैग्मा इस फैले भ्रंश से ऊपर आ जाता है।
  • और मैग्मा के ठंडा होने से नई भूपर्पटी का निर्माण हो जाता है।

नोट:- भूगोल की भाषा में ‘दरार’ को ‘भ्रंश’ कहा जाता है।

  1. अभिसारी गति (Convergent Movements) :-

  • अभिसारी गति (Convergent Movements) अपसारी गति (Divergent Movements के बिल्कुल विपरीत है।
  • अभिसारी गति (Convergent Movements) में दो प्लेटें एक दूसरे के समीप आती है इसलिये अभिसरण करती है।
  • जिससे भूकंप, पर्वतों का निर्माण, ज्वालामुखी क्रियाएं तथा ट्रेंच का निर्माण होता है।
  • कम घनत्व (Density/Thickness) वाली प्लेट ज्यादा घनत्व वाली प्लेट के नीचे क्षेपण हो जाती है।
  • सामान घनत्व वाली प्लेटें भूपृष्ठ का निर्माण करती है।
  1. रूपांतर गति (Transform Movements) :-

विश्व की मुख्य छह प्लेटें (Name Six Main Plates)

इसमें मुख्यता छह बड़ी प्लेटें तथा कई अन्य छोटी प्लेटें होती है। कुछ लोग इनको सात बड़ी प्लेट भी कहते हैं। जिसमें अमेरिकन प्लेट को दो भागों में बांट दिया जाता है – उत्तरी अमेरिकन प्लेट तथा दक्षिणी अमेरिकन प्लेट।

  • भारतीय प्लेट (Indian Plate),
  • अफ्रीकन प्लेट (African Plate),
  • यूरेशियन प्लेट (Eurasian Plate),
  • अमेरिकन प्लेट (American Plate),
  • प्रशांत प्लेट (Pacific Plate),
  • अंटार्कटिक प्लेट (Antarctic Plate)

इस लेख में प्लेट विवर्तनिक सिद्धांत (Plate Tectonic Theory UPSC) के विषय में सामान्य परिचय दिया गया है। हमें उम्मीद है कि आपको प्लेट विवर्तनिक सिद्धांत (Plate Tectonic Theory) के विषय में समझमें आया होगा।

आप हमें अपने सवाल और सुझाव कमेंट कर सकते हैं। ऐसी Post की जानकारी के लिए आप Notification “Allow” करना ना भूलें।

Click Here :- महाद्वीपीय प्रवाह का सिद्धांत । Continental Drift Theory in Hindi

Read More :- A Beautiful Inspirational Story of a Genius एक खूबसूरत प्रेरणादायक कहानी

धन्यवाद !
जय हिंद जय भारत !!

HimanshuAgrawal24

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here